Milk Fever in Cattle

मिल्क फीवर एक मेटाबोलिक बीमारी

मिल्क फीवर / दुग्ध ज्वर  मिल्क फीवर एक मेटाबोलिक बीमारी है (Milk Fever is Metabolic Disease in Cattle) जो गाय-भैंस में ब्याने से कुछ समय ही पहले या ब्याने के बाद कुछ...
Mineral Deficiency in Cattle

पशुओं में खनिज लवण की कमी के लक्षण

पशुओं के शरीर में पाये जाने वाले विभिन्न अंगों के सुव्यवस्थित संचालन के लिए खनिज लवणों का महत्वपूर्ण स्थान है। पशुओं के खिलाये जाने वाले चारे व दाने के माध्यम...
Saliva Secretion in cattle

रुमेन को कार्यक्षम रखकर दुध उत्पादन बढाने मे लार का महत्वपुर्ण योगदान

लार क्या है (excessive salivation in cattle)? जैसी की हम सब जानते है की गाय, भैंस जुगाली करनेवाले पशुओ के समूह से आते है। इसका मुख्य कारण है उनकी पाचन...
Animals Delivery

कठिन प्रसव: पशुओं की कष्टदायक स्थिती

प्रसव की वह स्थिती जिसमें मादा अपने स्वयं के प्रयासों से बच्चे को जन्म नही दे पाती है उसे कष्ट प्रसव (Animals Delivery) कहते है। कष्ट प्रसव के कारण माँ...
high fiber cattle feed

पशु आहार में रेशे की गुणवत्ता का महत्व

आहार में रेशे की गुणवत्ता (High Fiber Cattle Feed) डेयरी उद्योग में सफलता पाने के लिए पशुपोषण में उत्तम संतुलित आहार बहुत ही जरुरी होता है। आहार में भी रेशे...
पशु

पशुओं के प्रति क्रूरता और क्रूरता निवारण अधिनियम

आज संसार में पशुओं का उत्पीडन जिस बुरी तरह से किया जा रहा है उसे देखकर किसी भी भावनाशील का ह्रदय दया से भरकर कराह उठता है। पशुओं पर होने वाला अत्याचार...
Act and Rules

भारत में गौहत्या कानून : सामाजिक एवं राजनितिक परिदृश्य

यह एक निर्विवाद सत्य है की भारत में गाय को कभी भी पशु नहीं माना गया है , अपितु इन्हें ब्रम्हाण्ड की जननी और मनुष्यों की माता माना जाता रहा...

जीवामृत एवं नीमास्त्र बनाने की विधि एवं उपयोग

जीवामृत एवं नीमास्त्र बनाने की विधि एवं उपयोग:- बढ़ती महंगाई से खेती-किसानी में फसल की लागत दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। जिससे किसान परेशान होकर खेती से दूर भागता जा रहा है।...

सूखे चारे मे पोषक तत्व बढ़ाने की विधि

शुष्क प्रदेश होने के चलते भारत मे पशुओ को वर्ष भर हरा चारा उपलब्ध नही हो पाता हैं। साधारणतया गेहूं की तुड़ी, बाजरा-मक्का की कडबी और चावल की पुवाल पशु...
high fiber cattle feed

जैविक पशुधन उत्पादन और पशु स्वास्थ्य प्रबंधन से अधिक उत्पादन एवं आमदनी

जैविक पशुधन उत्पादन  कई दशको से अत्याधुनिक तकनीकी उपयोग करने के बाद आज हम महसूस करने लगे है की यदि हम ईसी तरह अपने परंपरागत पद्धति को छोडते है तथा...