गायों के आहार को संतुलित करने के प्रभावी तरीके

गायों को अपने स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए पर्याप्त आहार और चारे की आवश्यकता होती है पर ये धियान रखना ज़रूरी है के गाय को उतना ही आहार दे जिस्से उनका उनका वज़न न ज़्यादा बढे और न ज़्यादा घटे।समतोल आहार बनाने के लिए उसमे लेगुमिनॉयस चारा सूक्ष्म पदार्थ और ढेर सारे पानी का होना ज़रूरी है।जब गाय गर्भवती हो तब चारे की मात्रा को बढ़ाना पड़ता है जिससे प्रजनन क्षमता बानी रहे और पोषण की कमी से होनी वाली बीमारियों से बचा जा सके । 

किसानों के लिए सलाह

  • शरीर के आकार, आवास, मौसम, स्थलाकृति, प्रजनन चरण, और उत्पादकता स्तर पर विचार करते हुए  आहार कार्यक्रम तैयार किया जाना चाहिए।
  • एक डेयरी विशेषज्ञ, पशु पोषण विशेषज्ञ, या कृषि विज्ञान केंद्रों द्वारा नियमित रूप से परीक्षण की जाने वाली फ़ीड सामग्री प्राप्त करें ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी आहार घटक अच्छे गुणवत्ता और निर्विवाद हैं।
  • गाय के आहार में घास का इस्तेमाल ज़्यादा करें क्योंकि यह तीव्र और उप-तीव्र रूमेन एसिडिटी को कम करने में मदद करता है।
  • फ़ीड में परिवर्तन धीरे-धीरे और ७ से १० दिनों की अवधि में किया जाना चाहिए । अचानक परिवर्तन से इनके पाचन प्रक्रिया में बिगाड़ आता है और उत्पादन को नष्ट कर देता है ।
  • प्रत्येक गाय की भूख पर विचार करें और तदनुसार कंसन्ट्रेट फीड को प्रति दिन ५०० ग्राम से ७०० ग्राम प्रति गाय बढ़ाएं ।
  • एक मवेशी प्रबंधन सॉफ्टवेयर आपको एक सतत भोजन अनुसूची तैयार करने में मदद कर सकता है और इसलिए, गायों को फ़ीड की निरंतर पहुंच सुनिश्चित करना आसान हो जाता है।
  • ताजा फ़ीड पोषण का एक उत्कृष्ट स्रोत है। फैटी लिवर रोग और केटोसिस को रोकने के लिए आहार में प्रोपिलीन ग्लाइकोल का प्रयोग करें।
  • बाल्टी, बोतलें, कृत्रिम टीट्स और फीडिंग पेन जैसे किसी भी उपकरण को उपयोग के बाद पर्याप्त रूप से साफ किया जाना चाहिए।
  • शुरुआती स्तनपान में गायों का बॉडी कंडीशन स्कोर (बीसीएस) कम होता है। हालांकि, यह गर्भावस्था के पहले तिमाही के दौरान १ पॉइंट तक सीमित होना चाहिए और धीरे-धीरे कम होना चाहिए। सुनिश्चित करें कि गायों को न तो कम और न ही अत्यधिक खिलाया जाये।
  • दूध उत्पादन चरण के साथ एक स्कोर चार्ट नीचे दिखाया गया है जिसे गायों के बीसीएस का आकलन करते समय संदर्भित किया जा सकता है । किसी भी गाय का आदर्श बीसीएस दी गयी सीमा के बीच होना चाहिए अन्यथा उपयुक्त सुधारात्मक उपायों को लागू किया जाना चाहिए।

दूध उत्पादन चरण

बीसीएस (आदर्श रेंज)

शुष्क अवधि

ब्यांत

प्रारंभिक दूध उत्पादन अवधि

मध्य दूध उत्पादन अवधि

अंतिम दूध उत्पादन अवधि

३.२५ से ३.७५

३.२५ से ३.७५ 

२.५० से ३.२५

२.७५ से ३.२५

३.०० से ३.५०

  1. Gaay ke milk me acidic kam karne ka sabse jyada achha tarika unko khulla rakha jaye
    Vo jitna jyada chalti rahegi acidic praman itna km rahega.

    Reply

Leave a Reply to Adv. Bhimji Anagha Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*