पशुधन के लिए चारे के रूप में सूखी या क्षतिग्रस्त कटी हुई फसल

कई देशों में, असफल फसलें अब पशुधन को खिलाने के लिए कटाई जा रही हैं बशर्ते वे कुछ मानदंडों को पूरा करते हैं. फसल का निर्धारण चारा के रूप में करते समय फसल की उम्र विचार करने के लिए मुख्य कारक है. यदि फसल परिपक्व होती है, तो इसे घास...

जलवायु परिवर्तन के कारण फसल विफलता पूरे देश में आम हो गई है। वे सूखे की वजह से या अकालिक भारी बारिश या गंभीर उपद्रव से होती हैं। फसल विफलता किसानों पर भारी आर्थिक बोझ हो सकती है,भले ही फसल बीमित हो।

कई देशों में, असफल फसलें अब पशुधन को खिलाने के लिए कटाई जा रही हैं बशर्ते वे कुछ मानदंडों को पूरा करते हैं। फसल का निर्धारण चारा के रूप में करते समय फसल की उम्र विचार करने के लिए मुख्य कारक है।

यदि फसल परिपक्व होती है, तो इसे घास में परिवर्तित किया जा सकता है और सूखे चारा के रूप में पशुओं को खिलाया जा सकता है जबकि ६० – ६५% की नमी सामग्री वाली छोटी फसल काटकर सिलेज के रूप में संरक्षित कि जा सकती है।

विचार का दूसरा मुद्दा यह है कि क्या फसल पर कोई कीटनाशक या कवकनाशी का उपयोग किया गया है या नहीं ?

वास्तव में, कीट से पीड़ित फसलों के मामले में, किसानों को कीटनाशक छिड़कने से पहले फसल के बचने की संभावनाओं पर विचार करना चाहिए। यदि बचने की संभावनाएं कम होती हैं, तो यह उनके पक्ष में होगा की वे फसल का उपयोग मवेशियों के चारे के लिए  करे। यदि फसल को बुरशीनाशक या कीटनाशक के साथ छिड़काव किया गया है, तो भी १४ – २१ दिनों के बाद फसल को चारे के रूप में काटा जा सकता है। हर कवकनाशी का अपना अलग धारण अवधि रहता है।

कुछ सोयाबीन उत्पादक इस साल सूखे क्षतिग्रस्त सोयाबीन की खेतों की कटाई करके उसका उपयोग पशुओंके लिए चारे के रूप में करने का सोच रहे होंगे , यह आसान निर्णय नहीं है उत्पादक को सोयाबीन अनाज के मूल्य पर, सोयाबीन चारा के मूल्य की तुलना में विचार करना चाहिए ।

अन्य विचारों में फसल बीमा भुगतान पर प्रभाव पड़ता है, संयुक्त आपदा सहायता, और सभी सोयाबीन कीटनाशकों पर प्रतिबंध लगाते हैं।

सोयाबीन चारा का मूल्य बनाम सोयाबीन अनाज का मूल्य:

भारत में, एक बड़े क्षेत्र में सोयाबीन की खेती की जाती है। यह महत्वपूर्ण है कि किसान सूखा-तनाव वाले सोयाबीन की संभावित अनाज की उपज का आकलन करें। एक सामान्य नियम के रूप में, यदि पौधों ने अपने पत्तों का ५० प्रतिशत से अधिक को बरकरार रखा है, तो  फसल में अच्छे अनाज उपज का उत्पादन करने की क्षमता है बशर्ते कि फूलों का उत्पादन रोकने से पहले अच्छी बारिश होनी चाहिए।

यदि पौधों के पत्तिया ५० प्रतिशत से अधिक खो गयी हैं , फूल उत्पादन बंद हुआ है और केवल कुछ ही फली मौजूद हैं तो अनाज की उपज बहुत कम होगी. ऐसी स्थितियों में, किसानों को सोयाबीन की फसल को पशुओं के चारे के रूप में उगाहने से फायदा होगा।

सूखे सोयाबीन के चारे का अनुमानित उत्पादन 1.५  टन प्रति एकड़ होगा। डेयरी मवेशी के पोषक तत्व आवश्यकताएँ के  तालिकाओं के अनुसार, परिपक्वहोने से पहले काटे हुए सोयाबीन सिलेज में १७.४ % कच्चा  प्रोटीन रहता है (परिपक्व अल्फला घास के बराबर), १.२९ एनइल ३ X Mcal / किलोग्राम, ४६.६ %  एनडीएफ (परिपक्व अल्फला घास के बराबर) और ५.७ % ईथर एक्सट्रैक्ट या तेल सामग्री (लगभग २.५ गुना अल्फाल्पा घास से )। ये मूल्य फसल के विकास के अनुसार बदल सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*